वंशावली प्रमाण पत्र कैसे बनवाएँ? | 2 आसान तरीके

Bansawali Praman Patra Kaise Banwaye in Hindi : हर व्यक्ति अपने जीवन में कड़ी मेहनत करके कुछ संपत्ति इकट्ठी करता है ताकि भविष्य में उसके परिवार के लोग सुखी जीवन व्यतीत कर सकें लेकिन कई बार ऐसी स्थिति आ जाती है कि परिवार की संपत्ति का बंटवारा करना पड़ता है। जब कोई व्यक्ति अपनी संपत्ति का बंटवारा करता है तो उसकी संपत्ति का बंटवारा करने के लिए कई बार वंशावली प्रमाण पत्र की आवश्यकता होती है। Bansawali Certificate एक प्रकार का संपति प्रमाण पत्र होता है जो आमतौर पर संपत्ति के बंटवारे के लिए उपयोग किया जाता है। 

पहले के समय में लोगों को अपनी संपत्ति का बंटवारा करने के लिए वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने में काफी समस्याएं झेलनी पड़ती थी लेकिन आज कोई भी व्यक्ति बड़ी ही आसानी से कुछ ही समयमें अपना Bansawali बनवाने के लिए आवेदन कर सकता है। अगर आप भी अपनी संपत्ति का बंटवारा करने के लिए वंशावली प्रमाण पत्र बनवाना चाहते हैं लेकिन आपको Bansawali Kaise Banta Hai? के संबंध में कोई जानकारी नहीं है तो आप परेशान ना हो क्योंकि आपके लिए आज इस आर्टिकल के माध्यम से वंशावली प्रमाण पत्र कैसे बनता है? 

और वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने की ऑफलाइन प्रक्रिया के संबंध में पूरी जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है। अगर आप हमारे इस आर्टिकल में बताई गई सभी जानकारी ध्यानपूर्वक पढ़ते हैं तो आप बिना किसी परेशानी के अपने वंशावली हेतु आवेदन कर सके और उसका लाभ प्राप्त कर सके इसलिए आपको हमारे इस आर्टिकल में बताई गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी को ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़ना होगा तो चलिए जानते है Bansawali Kaise Banta Hai in Hindi में।

Contents show

वंशावली प्रमाण पत्र क्या होता है? | Bansawali Praman Patra Kya hota Hai in Hindi 

वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने की ऑफलाइन प्रक्रिया या फिर वंशावली प्रमाण पत्र कैसे बनता है? के संबंध में जानने से पहले आपको यह आवश्यक पता होना चाहिए की वंशावली प्रमाण पत्र क्या होता है? आपकी जानकारी के लिए हम बता दें की वंशावली एक ऐसा महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है जिसमें किसी परिवार के सदस्यों की वंशावली और गोत्र आदि की पूरी जानकारी दी होती है। इस दस्तावेज में परिवार के पूर्वजों से लेकर परिवार के वर्तमान समय तक के सभी सदस्यों का पूरा विवरण दिया होता है। 

वंशावली प्रमाण पत्र कैसे बनवाएँ

यानी कि आप कह सकते हैं की वंशावली दस्तावेज में पूर्वजों का विवरण दिया होता है जिसके माध्यम से आपके दादा, परदादा और पिता कौन है आदि की जानकारी हासिल की जा सकती है जिसे आप अपने पूर्वजों के आधार पर उनकी संपत्ति का अधिकार प्राप्त कर सकते हैं। बिहार वंशावली प्रमाण पत्र का उपयोग संपत्ति के बंटवारे के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जाता है। जैसे कि यदि किसी किसान को उसके पूर्वजों की जमीन मिली है और वह राज्य के कृषि विभाग के द्वारा संचालित की जा रही किसी योजना का लाभ प्राप्त करना चाहता है तो उसे उस योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदन करने के दौरान वंशावली दस्तावेज को पेश करना होगा। 

अगर आप भी संपत्ति के बंटवारे या फिर किसी सरकारी योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए अपने वंशावली प्रमाण पत्र को बनवाना चाहते हैं किंतु आपको Bihar Bansawali Kaise Banta Hai in Hindi के संबंध में जानकारी नहीं है तो आपको हमारा यह आर्टिकल अंत तक पूरा पढ़ना होगा क्योंकि इस आर्टिकल में हमने वंशावली कैसे बनता है? वंशावली की आवश्यकता क्यों होती है? कोर्ट के द्वारा वंशावली बनवाने की प्रक्रिया आदि के संबंध में पूरी जानकारी प्रदान की है।

वंशावली की आवश्यकता क्यों होती है?

आपकी जानकारी के लिए बता दें की वंशावली प्रमाण पत्र पूर्वजों की संपत्ति पर अधिकार पाने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है। यदि किसी व्यक्ति के दादा या परदादा अथवा पूर्वज उसके लिए किसी प्रकार की संपत्ति को छोड़कर गए हैं तो उसे संपत्ति का अधिकार पाने के लिए उसे व्यक्ति के पास वंशावली प्रमाण पत्र का होना बेहद ही आवश्यक है। 

आप इसे इस प्रकार से उदाहरण के रूप में समझ सकते है, जैसे कि मान लीजिए कि यदि कोई जमीन जो आपके दादा या परदादा के नाम पर है लेकिन उनके जाने के बाद किसी अन्य व्यक्ति ने उसे जमीन पर कब्जा कर लिया है तो आपको पुनः सा अपने पूर्वजों की संपत्ति पर नियंत्रित पाने के लिए वंशावली सर्टिफिकेट की आवश्यकता होगी। इसके अतिरिक्त राज्य सरकार के द्वारा संचालित की जा रही कई प्रकार की सरकारी योजनाओं का लाभ प्राप्त करने के लिए भी आपको बिहार वंशावली प्रमाण पत्र की आवश्यकता पड़ सकती है।

बिहार वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए शुल्क

बिहार राज्य सरकार के द्वारा आम नागरिकों के लिए विभिन्न प्रकार के सरकारी एवं गैर सरकारी दस्तावेज प्रदान किए जाते हैं जो अलग-अलग विभागों के द्वारा जारी किए जाते हैं। बिहार राज्य के राजस्व भूमि सुधार विभाग के द्वारा आम नागरिकों के लिए उनके पूर्वजों की संपत्ति पर अधिकार पाने के लिए वंशावली प्रमाण पत्र को जारी किया जाता है।

जिसे बनवाने के लिए उम्मीदवार ऑफलाइन माध्यम से आवेदन कर सकता है। अगर आप भी किसी कार्य के लिए वंशावली बनवाने के लिए ऑफलाइन माध्यम से आवेदन करना चाहते हैं तो आपको आवेदन शुल्क 10 रुपए का भुगतान करना होगा, जो बिहार राज्य सरकार के द्वारा निर्धारित किया गया है। इसके अलावा यदि आवेदक वंशावली को पुनः जारी करवाना चाहता है तो उसे₹100 का शुल्क जमा करना होगा।

बिहार वंशावली प्रमाण पत्र के लिए आवश्यक दस्तावेज | Documents required for Bihar genealogy certificate

अगर आप बिहार राज्य के निवासी हैं और आप नए तरीके से वंशावली बनवाने हेतु आवेदन करना चाहते हैं तो आपको अपना वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। आपकी सुविधा के लिए हमारे द्वारा वंशावली बनवाने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेजों की लिस्ट निम्नलिखित प्रकार से नीचे प्रदान की गई है – 

  • आवेदक का आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पांच गवाह का आधार कार्ड
  • लिखित आवेदन पत्र
  • पिता/पति का आधार कार्ड
  • आवेदक के दादा का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • ग्राम पंचायत के मुखिया, वार्ड सदस्य, आंगनबाड़ी सेविका, चौकीदार का हस्ताक्षर
  • आवेदक का मोबाइल नंबर 
  • आवेदक का पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ 
  • पांच गवाह के पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ

वंशावली कैसे बनता है?

वर्तमान समय में वंशावली प्रमाण पत्र को दो तरीकों से बनाया जा सकता है, पहले आप अपने ग्राम पंचायत के सरपंच के पास जाकर अपनी वंशावली बनवा सकते हैं और दूसरा तरीका यह है कि आप कोर्ट के माध्यम से वंशावली बनवाने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आप सभी को वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने में कोई भी असुविधा न हो इसके लिए हमारे द्वारा ग्राम पंचायत के सरपंच और कोर्ट के माध्यम से वंशावली बनवाने की पूरी प्रक्रिया के बारे में नीचे विस्तार पूर्वक बताया जा रहा है। आप अपनी सुविधा अनुसार जिस तरीके से अपनी वंशावली बनवाने के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो उसकी प्रक्रिया फॉलो कर सकते है।

कोर्ट के द्वारा वंशावली कैसे बनता है? | court Se Bansawali Kaise Banta Hai

अगर आप अपना वंशावली बनवाने के लिए कोर्ट में जाकर आवेदन करना चाहते हैं तो आप हमारे द्वारा नीचे बताई गई प्रक्रिया को अपनाकर आसानी से कोर्ट के माध्यम से वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने हेतु आवेदन कर सकते हैं, जो कुछ इस प्रकार से नीचे दी गई है – 

  • कोर्ट के द्वारा वंशावली बनवाने के लिए सर्वप्रथम आपको अपने जिला कोर्ट में जाना होगा। 
  • जिला कोर्ट में पहुंचने के बाद आपको वंशावली के लिए आवेदन करने हेतु फार्म प्राप्त करना होगा। 
  • इसके बाद आपको आवेदन फार्म में मांगी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी ध्यान पूर्वक सही-सही तर्ज करने होंगी।
  • मांगी गई सभी जानकारी दर्ज करने के पश्चात आपको मांगे गए दस्तावेजों को आवेदन फॉर्म के साथ संलग्न करना होगा। 
  • इतना करने के पश्चात आपको आवेदन फार्म और सभी दस्तावेजों की फोटो कॉपी को वापस कोड में जमा करना होगा। 
  • इसके कुछ समय पश्चात आपकी वंशावली बनकर तैयार हो जाएगी जिसे आप आसानी से कोर्ट में जाकर प्राप्त कर सकते है।
  • इस तरह से कोई भी व्यक्ति कोर्ट के द्वारा अपना वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन कर सकता है।

पंचायत/वार्ड स्तर द्वारा वंशावली कैसे बनता है? | Panchayat se Bansawali Kaise Banta Hai in Hindi 

यदि कोई व्यक्ति अपने पंचायत या वार्ड स्तर द्वारा वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदन करना चाहता है किंतु आपको नहीं पता की पंचायत के द्वारा वंशावली कैसे बनता है? तो इसकी पूरी प्रक्रिया निम्नलिखित प्रकार से नीचे उपलब्ध कराई गई है जिसे अपना आकर आप आसानी से बिहार वंशावली प्रमाण पत्र बनवा सकते हो, जैसे कि- 

  • सरपंच या वार्ड के द्वारा अपना वंशावली बनवाने के लिए सर्वप्रथम आपको अपने पंचायत या क्षेत्र के वार्ड कार्यालय में जाना होगा।
  • पंचायत या क्षेत्र के बोर्ड कार्यालय में पहुंचने के बाद आपको वंशावली आवेदन पत्र को प्राप्त कर रहा होगा। 
  • आवेदन फार्म प्राप्त करने के उपरांत आपको इसमें मांगी गई सभी आवश्यक जानकारी ध्यान पूर्वक दर्ज करनी होगी। 
  • मांगी गई सभी आवश्यक जानकारी दर्ज करने के पश्चात आपको आवेदन पत्र पर अपने ग्राम पंचायत के वार्ड सदस्य, आंगनबाड़ी सेविका तथा चौकीदार एवं मुखिया के हस्ताक्षर और मोहर लगवाना होगा।
  • अब आपको अपने आवेदन फार्म के साथ मांगे गए सभी आवश्यक दस्तावेजों की फोटो कॉपी को अटैच करना होगा। 
  • इतना सब करने के पश्चात आपको अपने वंशावली आवेदन फार्म कोवार्ड सदस्य या पंचायत सचिव के पास जमा कर देना है।
  • इसके पश्चात आपके आवेदन फार्म में दी गई जानकारी और सभी दस्तावेजों का सत्यापन किया जाएगा। 
  • और अगर आपके द्वारा दी गई सभी जानकारी और दस्तावेज सही पाए जाते हैं तो आपको वंशावली प्रदान कर दी जाएगी।

Bansawali Kaise Banta Hai Related FAQs 

वंशावली प्रमाण पत्र क्या होता है? 

यह एक बहुत ही जरूरी दस्तावेज होता है जिसमें हमारे पूर्वजों और उनकी संपत्ति का पूरा विवरण दिया होता है जिसके माध्यम से हम अपने पूर्वजों की संपत्ति पर अधिकार प्राप्त कर सकते है।

बिहार वंशावली प्रमाण पत्र किस विभाग के द्वारा जारी किया जाता है? 

बिहार वंशावली प्रमाणपत्र राजस्व भूमि सुधार विभाग, बिहार सरकार के द्वारा जारी किया जाता है जिसे बनवाने के लिए उम्मीदवार को निर्धारित शुल्क के साथ आवेदन करना पड़ता है।

वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने की आवश्यकता क्यों होती है? 

यदि आप अपने पूर्वजों के द्वारा छोड़ी गई जमीन पर नियंत्रण या फिर कानूनी हक प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको अपने पूर्वजों की जमीन का मालिक आना हक प्राप्त करने के लिए वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने की आवश्यकता होगी।

बिहार में वंशावली कैसे बनता है?

बिहार राज्य में वंशावली प्रमाण पत्र पंचायत स्तर पर आप अपने पंचायत निधि सरपंच के द्वारा ऑफलाइन प्रक्रिया के माध्यम से बनवा सकते हैं इसके अलावा आप चाहे तो अपने जिला कोर्ट में जाकर वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने हेतु आवेदन कर सकते है।

क्या बिहार वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए कोई शुल्क देना पड़ता है? 

जी हां बिहार वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए आवेदक को₹10 के निर्धारित शुल्क का भुगतान करना पड़ता है जिसे बिहार राज्य सरकार के द्वारा निर्धारित किया गया है।

वंशावली प्रमाण पत्र पुनः जारी करने के लिए कितना शुल्क देना होगा? 

अगर कोई व्यक्ति वंशावली प्रमाण पत्र पुनः जारी करवाना चाहता है तो उसके लिए आवेदक को ₹100 का आवेदन शुल्क देना होगा। इस निर्धारित शुल्क का भुगतान आवेदक को अपने पंचायत के सरपंच को करना होगा। 

आवेदन करने के कितने दिनों के बाद वंशावली जारी कर दिया जाता है? 

बिहार राज्य सरकार के द्वारा आवेदन करने के 15 से 20 दिनों के अंदर वंशावली प्रमाण पत्र जारी कर दिया जाता है जिस उम्मीदवार अपनी नजदीकी पंचायत कार्यालय में जाकर प्राप्त कर सकता है।

निष्कर्ष 

आज आप हमारे इस आर्टिकल में बताई गई वंशावली प्रमाण पत्र कैसे बनता है? | Bansawali Kaise Banta Hai in Hindi को पढ़कर अच्छी तरह से समझ चुके होंगे कि बिहार राज्य में वंशावली कैसे बनता है? और आपको अपना वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने के लिए कितना शुल्क देना होगा. अगर आपके लिए हमारा यह आर्टिकल उपयोगी साबित रहा हो तो कृपया करके आप इसे अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

और अगर आपको वंशावली प्रमाण पत्र बनवाने में कोई समस्या आ रही है या फिर आप इससे संबंधित किसी प्रकार के अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप अपने सभी तरह के प्रश्नों को नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में लिखकर हमसे पूछ सकते हैं। हम आपके द्वारा पूछे गए हर एक प्रश्न का उत्तर कमेंट के माध्यम से प्रदान करेंगे तब तक आप हमारी वेबसाइट के साथ जुड़े रहिए।

Leave a Comment