सिबिल स्कोर क्या है? अपना सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाएं? | सिबिल स्कोर बढ़ाने के आसान तरीके 2022

सिबिल स्कोर किसी बैंक द्वारा अपने ग्राहक को लोन देने या उसका क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए काफी जरुरी होता है क्योंकि किसी कस्टमर का सिबिल स्कोर ही बताता है कि वह कस्टमर अपने लिए गये लोन की EMI या बिल का समय से भुगतान करता है या नही करता है। अगर आपका सिबिल स्कोर कम होता है तो कोई भी बैंक आपको लोन नही देगी और ना ही आपका क्रेडिट कार्ड बनाएगी।

आज के अपने इस आर्टिकल में हम आपको सिबिल स्कोर के बारे में सभी जरुरी जानकारी देगी और यह भी बतायेगे कि आप अपने सिबिल स्कोर को किस प्रकार बढ़ा सकते है जिससे बैंक आपको क्रेडिट कार्ड दे सके या फिर अगर आप लोन लेना चाहते है तो आप लोन ले सके। अगर आप यह सभी जानकारी लेना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ें।

Contents

सिबिल स्कोर क्या होता है? | What is CIBIL Score?

सिबिल स्कोर एक तीन अंको का नंबर होता है जो 300 से 900 के बीच में रहता है। यह स्कोर यूजर की लोन लेने और उसको रीपेमेंट करने की हिस्ट्री के आधार पर generate किया जाता है। अगर आपका सिबिल स्कोर 750 से अधिक होता है तो आपको लोन मिलने में कोई परेशानी नही होती है। अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा नही है और आपकी सैलरी भी अच्छी है तो आपको लोन मिलने में काफी परेशानी होती है इसलिए आपको अपने सिबिल स्कोर को हमेशा अच्छा रखना चाहिए।

सिबिल स्कोर क्या हैं अपना सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाएं

अगर आपका सिबिल स्कोर अच्छा नही है तो आपको बता दूँ कि अपने इस आर्टिकल में हम आपको अपने सिबिल स्कोर  को बढ़ाने के लिए कुछ टिप्स (Tips to improve CIBIL Score) देगे जिससे आप अपने सिबिल स्कोर को बढ़ा सकते है और क्रेडिट कार्ड या फिर लोन लेने के समय होने वाली परेशानियों से बच सकते है।

सिबिल स्कोर कम क्यों हो जाता हैं? | Why does the CIBIL score decrease?

ऐसा कई लोगो के साथ होता है कि पहले उनका सिबिल स्कोर काफी अच्छा होता है लेकिन फिर लोन लेने के कुछ महीने बाद उनका सिबिल स्कोर कम हो जाता है, अगर आप नही जानते है तो आपको बता दूँ कि किसी भी यूजर का सिबिल स्कोर कम होने का मुख्य कारण यूजर द्वारा अपने लोन की EMI को या अपने क्रेडिट कार्ड के बिल को समय पर ना भरना है।

किसी यूजर का सिबिल स्कोर कम होने या बढ़ने के लिए मुख्य रूप से तीन तरह के पैरामीटर निर्धारित किये गये है जिनके द्वारा ही किसी व्यक्ति का सिबिल स्कोर कैलकुलेट किया जाता है। सिबिल स्कोर को कैलकुलेट करने में 30 फीसदी कैलकुलेशन पेमेंट हिस्ट्री से और 25 फीसदी यूजर के क्रेडिट एक्सपोजर और 25 फीसदी व्यक्ति के क्रेडिट टाइप एंड ड्यूरेशन से और बाकि का 20 फीसदी अन्य तरह की यूजर एक्टिविटी को लेकर generate किया जाता है।

सिबिल स्कोर या क्रेडिट स्कोर कम होने के मुख्य कारण क्या है? | Main Reason to decrease CIBIL Score

अगर आपका CIBIL Score कम हो गया है और आपको नही पता है कि ऐसा क्यों हुआ है तो आप नीचे दिए जा रहे फैक्ट्स को पढ़कर अपने CIBIL Score के कम होने का कारण पता कर सकते है।

लोन या क्रेडिट कार्ड पेमेंट का भुगतान समय पर ना करना? | Failed to Repayment of loan on Due Date

अगर आपने लोन लिया है और आप उस लोन की EMI या फिर अपने क्रेडिट कार्ड की EMI को उसकी due डेट पर भुगतान नही करते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है। अगर आप अपने दो या दो से ज्यादा पेमेंट को डिफॉल्ट कर देते है तो आपके क्रेडिट स्कोर पर बहुत नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

ज्यादा अनसिक्योर्ड डेब्ट्स | More Unsecured Debts

अगर आप ज्यादा अनसिक्योर्ड डेब्ट्स लेते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है जिसके कारण आपको लोन लेने में काफी सारी समस्याएं होती है। अगर आप अनसिक्योर्ड डेब्ट्स के बारे में नही जानते तो आपको बता दूँ कि अनसिक्योर्ड डेब्ट वो लोन होते हैं जिनके बदले कस्टमर की तरफ से कोई कॉलेटरल नहीं रखा जाता है जैसे कि पर्सनल लोन, क्रेडिट कार्ड आदि, जबकि सिक्योर्ड डेब्ट में कार लोन, होम लोन, गोल्ड लोन आदि आते है।

लिवरेज सीमा | Leverage limit

किसी भी लोन की लिवरेज सीमा इस बात पर निर्भर करती है कि आप अपनी लोन लिमिट या क्रेडिट लिमिट को कितना यूज़ कर लेते है। अगर आप अपनी क्रेडिट लिमिट को उसकी लिमिट तक इस्तेमाल कर लेते है तो आपका क्रेडिट स्कोर कम हो जाता है।

अगर आप ऐसा करते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जायेगा चाहे आप अपने ड्यूज का भुगतान समय पर कर रहे है। मान लो आपके क्रेडिट कार्ड की क्रेडिट लिमिट पचास हज़ार रुपये है और आप हर महीने अपने क्रडिट कार्ड की लिमिट से 90 फीसदी या इससे ज्यादा खर्च कर लेते है तो आपका क्रेडिट स्कोर कम हो जाता है।

क्रेडिट इंक्वायरी | Credit Enquiry

अगर आप आये दिन अपने पेन कार्ड पर नये क्रेडिट बैलेंस या लोन के लिए चेक करते रहते है या लोन के लिए अप्लाई करते है तब भी आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है। इसलिए जब तक जरूरत ना हो आपको नये लोन के लिए अप्लाई नही करना चाहिए। अगर आप अपनी क्रेडिट रिपोर्ट चेक करते हैं तो यह सॉफ्ट इंक्वायरी की कैटेगरी में आता है जिससे आपके क्रेडिट स्कोर पर कोई भी प्रभाव नहीं पड़ता हैं।

क्रेडिट रिपोर्ट में गलत जानकारी | Wrong Details in Credit Report

अगर आप अपने क्रेडिट स्कोर को चेक करने के लिए अपनी किसी भी तरह जानकारी को गलत डालते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है। इसलिए जब भी आप अपने सिबिल स्कोर को चेक करने के लिए अप्लाई करते है तो उसमे आपको सही जानकारी भरनी चाहिए।

सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाए | How to improve CIBIL Score

अगर आपका सिबिल स्कोर कम है और आप अपने सिबिल स्कोर को बढ़ाना चाहते है तो आप नीचे दिए जा रहे Tips को फॉलो करके अपने सिबिल स्कोर को बढ़ाने के टिप्स के बारे में जानकारी ले सकते है।

अपने लोन और क्रेडिट कार्ड की EMI का समय पर भुगतान करें? | Pay Your Loan on Due Date

किसी भी व्यक्ति के सिबिल स्कोर को बढ़ाने के लिए यह सबसे जरुरी नियम है कि आप अपने सभी प्रकार के लोन और क्रेडिट कार्ड की EMI का भुगतान उनकी due date पर करें। अगर आप ऐसा नही कर पाते है तो आने वाले समय में आपका सिबिल स्कोर बहुत कम हो जायेगा और कोई भी बैंक आपको लोन या क्रेडिट कार्ड नही देगी।

अगर आपने कई सारे लोन लिए है और आपको अपनी EMI के बारे में ध्यान नही रहता है तो आप EMI Auto Payment का प्रयोग कर सकते है या फिर आप CRED जैसे किसी app का यूज़ कर सकते है जो आपकी EMI को due डेट पर पे कर देता है और साथ में ही आपको कई तरह के कैशबैक ऑफर मिल जाते है।

पूरी क्रेडिट लिमिट का उपयोग ना करें | Don’t Utilize Your Full Credit Limit

अगर आप अपने क्रेडिट कार्ड की पूरी लिमिट को यूज कर लेते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है इसलिए आपको हमेशा अपनी क्रेडिट लिमिट को 50 फीसदी या इससे कम ही यूज़ करना चाहिए। जब आप अपनी क्रेडिट लिमिट को कम यूज़ करते है तो अपका सिबिल स्कोर बढ़ जाता है।

मान लो आपके क्रेडिट कार्ड पर आपकी लिमिट 40 हज़ार रुपये है तो आपको अपने क्रेडिट कार्ड से सिर्फ 20 हज़ार रुपये की ही शोपिंग करनी चाहिए। जब आप कुछ महीनों तक ऐसा करते है तो आपका सिबिल स्कोर बढ़ जाता है। इसके अलावा आपकी महीने की कुल EMI आपके महीने की इनकम के 40 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए अन्यथा आपका सिबिल स्कोर कम हो जायेगा।

क्रेडिट मिक्स | Aware for Credit Mix

अगर आप सिक्योर्ड डेब्ट के मुकाबले अनसिक्योर्ड डेब्ट ज्यादा ले लेते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है इसलिए आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपके सिक्योर्ड डेब्ट के मुकाबले अनसिक्योर्ड डेब्ट कम हो जिससे आपका सिबिल स्कोर बढ़ सके।

किसी भी व्यक्ति को अपने अनसिक्योर्ड डेब्ट्स जैसे कि पर्सनल लोन, क्रेडिट कार्ड के लोन को अपने कुल डेब्ट के 20% से अधिक नहीं रखने चाहिए, अगर आप ऐसा करते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है। अगर आप अपने सिबिल स्कोर को किसी भी हालत में कम नही करना चाहते है तो आप अपनी बैंक से सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं।

कम समय अवधि में अधिक लोन ना लें? | Don’t  take More than two loan on same time

अगर आप कम समय में दो या दो से ज्यादा लोन ले लेते है तो आपका सिबिल स्कोर कम हो जाता है आम तौर पर आपको दूसरा लोन तभी लेना चाहिए जब आप अपने पहले लोन की सभी EMI को सफलतापूर्वक बैंक में जमा कर देते है जिससे आपका सिबिल स्कोर भी बढ़ता है और आपको नया लोन मिलने में कोई परेशानी भी नही होती है।

लोन की अवधि लंबी रखे? | Take Long Term Loan

अगर आप एक लोन लेते है और उस लोन की अवधि कम रखते है तो आपको लोन की EMI बैंक में जमा करने में परेशानी हो सकती है क्योंकि कम अवधि लोन वाले की EMI की धनराशि ज्यादा होती है। इसलिए अगर आप अपने लोन की अवधि ज्यादा रखते है तो आप बिना किसी परेशानी और बिना EMI डिफ़ॉल्ट के हर महीने अपनी EMI जमा कर सकते है जिससे आपका सिबिल स्कोर बढ़ जायेगा।

अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को बढायें | Accept Bank offer to Increase Your Credit Limit

अगर आपका बैंक आपके क्रेडिट कार्ड की लिमिट को बढ़ाने के लिए आपको ऑफर देता है तो आपको उस ऑफर को लेकर अपने क्रेडिट कार्ड की लिमिट को बढ़ा लेना चाहिए क्योंकि इससे आप हर महीने होने वाले अपने खर्चे का अनुपात कम हो जाता है और इससे आपका सिबिल स्कोर बढ़ जाता है।

CIBIL Score Related FAQ –

क्रेडिट कार्ड के लिए कितना सिबिल स्कोर अच्छा माना जाता है?

अनेक भारतीय बैंक के द्वारा अपने ग्राहकों के लिए एक क्रेडिट कार्ड जारी किया जाता है। जो कि एक ग्राहक को उसके सिविल स्कोर के आधार पर दिया जाता है। अगर क्रेडिट कार्ड लेने के लिए सिविल इसकोर की बात करें तो बैंक 750 या इससे अधिक सिबिल स्कोर को अच्छा मानती हैं।

सिविल स्कोर क्या है

सिबिल स्कोर 3 अंकों का एक नंबर होता हैं। जो जो किसी भी व्यक्ति के क्रेडिट कार्ड की योग्यता को बताता है। सिबिल स्कोर 300 से 900 के बीच मे होता हैं।

सिबिल स्कोर को बढ़ाने के लिए क्या करें?

सिविल स्कोर बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका यही है कि आप समय पर अपनी ईएमआई, क्रेडिट कार्ड बिल आदि को समय पर जमा करें। बाकी स्कोर को बढ़ाने की जानकारी ऊपर दी गई है।

क्या क्रेडिट स्कोर और सिविल स्कोर अलग-अलग है

जी नहीं क्रेडिट स्कोर और सिविल इसको एक ही है बस इन्हें अलग-अलग नामों से जाना जाता है

मेरा सिबिल स्कोर 500 से नीचे है क्या मुझे क्रेडिट कार्ड मिल सकता है?

जी नहीं, अगर आपका सिविल स्कोर 500 से कम है तो आपको क्रेडिट कार्ड नहीं मिलेगा। क्रेडिट कार्ड पाने के लिए आपका सिबिल स्कोर 750 से ऊपर होना चाहिए।

Cibil Score का पूरा नाम क्या हैं?

Cibil Score का पूरा नाम Credit information Bureau India Limited होता हैं।

लोन लेने के लिए सिबिल स्कोर कितना होना चाहिए

लोन लेने के लिए भी आपका सिविल इसको 750 से ऊपर होना चाहिए। अगर आपका 750 से ऊपर से सिबिल स्कोर है तो आप आसानी से लोन ले सकते हैं।

बैंकिंग की बढ़ती बेहतर सुविधाओं के का लाभ लेने के लिए हर व्यक्ति का सिबिल स्कोर अच्छा होना वर्तमान समय मे बेहद जरूरी हो गया हैं। लेकिन काफी ऐसे लोग हैं जो सिविल स्कोर क्या है या फिर सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाएं? इससे अंजान हैं। इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हमने अपने इस आर्टिकल में सिबिल स्कोर क्या हैं? अपना सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाएं? जानिए हिंदी में आसान तरीके के बारे में बताया हैं।

ताकि आप भी अपना सर्विस स्कोर को बढ़ाकर बैंक के द्वारा दी जाने वाली बेहतर सुविधाओं जैसे लोन क्रेडिट कार्ड का लाभ ले सकें। आशा करता हूं कि आप को दी गई जानकारी उपयोगी रही होगी। बाकी अगर आप क्रेडिट इस कोरिया पर क्रेडिट कार्ड, बैंकिंग सम्बंधित जैसी अन्य किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो हमें सीधे कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Spread the love

Leave a Comment