गांव में बकरी पालन कैसे करे? | लागत, कमाई | Gaon Mein Bakri Palan Kaise Kare in Hindi

|| Gaon Maine Bakri Palan Kaise Kare in Hindi | गांव में बकरी पालन कैसे करे? | How to start a goat farming business in the village? | Gaon Maine Bakri Palan Kaise Kare |

वर्तमान समय में ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले लोग केवल कृषि ही नही बल्कि अन्य व्यवसाय करने की ओर कदम बढ़ा रहे है. वर्तमान समय में ग्रामीण क्षेत्रों में बकरी पालन का व्यवसाय बहुत तेजी से Grow कर रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले किसान ही नहीं बल्कि अन्य पढ़े-लिखे बेरोजगार युवा भी बकरी पालन व्यापार (Gaon Maine Bakri Palan Kaise Kare in Hindi) कर रहे है।

अगर आप एक बेरोजगार हैं या फिर एक किसान है और आप अधिक आय अर्जित करना चाहते हैं तो बकरी पालन व्यवसाय आपके लिए बेहतर विकल्प रहेगा। यदि आप बकरी पालन बिजनेस शुरू करना चाहते हैं और आपके मन में बकरी पालन से जुड़े प्रश्न जैसे गांव में बकरी पालन व्यवसाय कैसे शुरू करें? (How to start a goat farming business in the village?) बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने में आने वाली लागत, बकरी पालन से पैसे कमाने के तरीके क्या है? आदि है.

तो आपके लिए हमारा आज का यह आर्टिकल बहुत ही महत्वपूर्ण साबित होने वाला है क्योंकि आज के इस आर्टिकल में हम विस्तारपूर्वक बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने से संबंधित सभी जरूरी जानकारी साझा करेंगे इसलिए आप ध्यान पूर्वक हमारे इस लेख को पूरा अंत तक पढ़े। इस आर्टिकल को पढ़कर आप बकरी पालन (Goat Farming Business in Hindi) से संबंधित अपने सभी प्रश्नों के उत्तर प्राप्त कर सकेंगे तो बिना देरी किए चलिए शुरू करते है-

Contents show

बकरी पालन व्यवसाय क्या होता है? | What is goat farming business?

भारत एक ऐसा देश है जहां लोग पैसे कमाने के लिए कई प्रकार के व्यवसाय कर रहे हैं जिनमें बकरी पालन व्यवसाय भी शामिल है यह एक ऐसा व्यवसाय (Gaon Maine Bakri Palan Kaise Kare) है जिसमें लोग तरह-तरह की नस्ल की बकरी का पालन करके उनसे आय अर्जित करते है, यह वेबसाइट शहरी क्षेत्रों से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में काफी प्रचलित है क्योंकि इसमें पैसे कमाने की अपार संभावनाएं मौजूद है।

गांव में बकरी पालन कैसे करे लागत कमाई Gaon Mein Bakri Palan Kaise Kare in Hindi

लेकिन अधिकांश नागरिकों को घर पर बकरी पालन बिजनेस कैसे शुरू करें? (Start Goat Farming Business in Hindi) या फिर ग्रामीण क्षेत्र में बकरी पालन का बिजनेस शुरू करने के तरीकों के बारे में जानकारी नहीं है जिसकी वजह से बाय बकरी पालन बिजनेस शुरू करने में असमर्थ है इसलिए इस पोस्ट के माध्यम से हम अपने पाठकों के लिए बकरी पालन व्यवसाय (Goat farming business) से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी साझा करने वाले हैं ताकि आपको बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने मैं कोई भी परेशानी न उठानी पड़े।

बकरी पालन व्यवसाय कौन कर सकता है? | Bakri Palan Vyavsay Kaun Kar Sakta Hai?

यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसे ग्रामीण एवं शहरी दोनों क्षेत्रों में आसानी से कर सकते हैं लेकिन शहरी क्षेत्रों में बकरी पालन बिजनेस शुरू करने में काफी मुश्किल आती है, साथ ही इसमें अधिक पैसे भी लगाने पड़ते है लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करने वाले लोग बकरी पालन व्यवसाय को आसानी से बहुत ही कम लागत में शुरू कर सकते है।

अन्य व्यवसाय करने के लिए कुछ योग्यताओं की आवश्यकता होती है लेकिन बकरी पालन व्यवसाय को बिना किसी योग्यता या पात्रता मापदंड के शुरू किया जा सकता है इस बिजनेस को कोई भी पढ़ा लिखा है या फिर अनपढ़ आसानी से शुरू कर सकता है बस इसके लिए उचित लागत होनी चाहिए।

बकरी पालन व्यवसाय कैसे शुरू करें? | How to start goat farming business?

अगर आप अपने ग्रामीण क्षेत्र में बकरी पालन व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं लेकिन आपको गांव में बकरी पालन बिजनेस कैसे शुरू करें? के संबंध में जानकारी नहीं है तो हमने आपको नीचे बकरी पालन बिजनेस शुरू करने से संबंधित पूरी योजनाओं के बारे में नीचे स्टेप बाय स्टेप बताया है जिसके अनुसार आप अपना बकरी पालन बिजनेस शुरू कर सकते हो।

बकरी पालन शेड तैयार करें

बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए सबसे जरूरी बकरियों के रहने के लिए शेड का निर्माण करना है आप जितनी बकरी से बकरी पालन आपको उतने ही शेड का निर्माण करना होगा। हर बकरी के रहने के लिए 10 स्क्वायर फीट के शेड का निर्माण, तथा प्रेग्नेंट बकरी के लिए 18 से 20 स्क्वायर फीट जगह की आवश्यकता होगी और वहीं अलग-अलग उम्र के बकरी के बच्चो को रखने के 8 स्क्वायर फीट जगह की जरूरत होती है.

इसके अलावा बकरा को रखने के लिए 22 से 25 स्क्वायर फीट जगह में शेड का निर्माण करने की आवश्यकता होगी। और अगर आप गांव में बकरी पालन व्यवसाय शुरू कर रहे हैं तो आप गांव में ही बकरी पालन शेड बनाकर बकरी का पालन शुरू कर सकते हैं लेकिन आपको बकरी का रखरखाव तथा खान-पान की पूरी व्यवस्था करनी होगी।

सही नस्ल का चुनाव करें

बकरी पालन शुरू करने से पहले सही नस्ल की बकरी का चुनाव करना बेहद आवश्यक है ताकि आप अधैक मात्रा में मुनाफा कमा सके। बकरी पालन व्यवसाय के लिए आपको अपने बजट और अपने क्षेत्र की जलवायु के अनुसार ही अच्छी नस्ल की बकरियों का चुनाव करना चाहिए। आप अपनी इच्छानुसार नस्ल की बकरी का चयन कर सकते है। जिनके बारे में निम्नलिखित प्रकार से नीचे बताया जा रहा है।

चांगथांगी या लद्दाख पश्मीना नस्ल की बकरी

चांगथांगी या लद्दाख पश्मीना नस्ल की बकरी अधिकतर कश्मीर राज्य में पाई जाती है इस नस्ल की बकरियों का पालन चांगपा समुदाय द्वारा उत्तरी भारतीय राज्य जम्मू और कश्मीर में इन बकरियों का पालन काफी ज्यादा होता है.

चांगपा समुदाय द्वारा उत्तरी भारतीय राज्य जम्मू और कश्मीर में इन बकरियों का पालन काफी ज्यादा होता है क्योंकि इस नस्ल की बकरियों को रहने के लिए ठंडी जलवायु की आवश्यकता होती है इसलिए अगर आप किसी ऐसे क्षेत्र में निवास करते है, जहां की जलवायु ठंडी है तो आप अपने गांव में चांगथांगी या लद्दाख पश्मीना नस्ल की बकरी का पालन शुरू कर सकते हो।

चिगू नस्ल की बकरी

इस प्रकार की नस्ल को बकरियों का पालन उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश के उत्तर पूर्व में भरी मात्रा में होता है। इसका मुख्य कारण यह है कि इस नस्ल की बकरियों के लिए यहां का मौसम और जगह काफी उपयुक्त होता है।

चिगू नस्ल की मादा बकरियों के शरीर का वजन 25 किलोग्राम और बकरे के शरीर का वजन 40 किलोग्राम तक होता है। जो लोग उत्तर प्रदेश राज्यए निवास करते है और वह बकरी पालन शुरू करना चाहते है तो वह Goat Farming के लिए चिगू नस्ल की बकरियों को चुन सकते हो।

मालाबारी नस्ल की बकरी

मालाबारीनस्ल की बकरी के कान और पैर छोटे छोटे होते है लेकिन यह बकरी काफी अधिक मात्रा में मास और दूध का उत्पादन करती है। इनका वजन 68 किलोग्राम तक होता है और बकरों का वजन 41.20 किलोग्राम तक पहुंच जाता है। भारत के केरल जैसे राज्यों में इन बकरियों का पालन सबसे अधिक किया जाता है यह बकरी बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए सर्वोत्तम नस्ल मानी जाती है।

सुरती नस्ल की बकरी

भारत के अधिकांश क्षेत्रों में इस नस्ल की बकरियों को घरों में पाला जाता है जो की भारी मात्रा में दुग्ध उत्पादन करती हैं और दूध के लिए ही इन्हें पाला जाता है इनके दूध में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जिनकी मार्केट में काफी अच्छी कीमत मिलती है। कहने का तात्पर्य है कि भारत में निवास करने वाले जितने भी लोग अपने घरों में बकरी पालन करते हैं वह सभी सुरती नस्ल की बकरियां होती है।

सिरोही नस्ल की बकरी

वैसे तो सिरोही नस्ल की बकरियों को मीट उत्पादन के लिए पाला जाता है लेकिन यह बकरियां दूध भी अधिक मात्रा में देते हैं। इस नस्ल की बकरियों की सबसे खास बात यह है कि यह बहुत तेजी से बढ़ती है जिसकी वजह से बकरी का औसत वजन 33 किलोग्राम तक तथा बकरे का वजन 30 किलोग्राम तक हो जाता है।

और गर्म जलवायु को भी आसानी से सहन कर सकती हैं। राजस्थान राज्य में सिरोही नस्ल की बकरियों का पालन सबसे अधिक किया जाता है अगर आप राजस्थान राज्य में निवास करते हैं तो आप इस नस्ल की बकरियों का चुनाव करके अपना बकरी पालन व्यवसाय शुरू कर सकते हो।

बकरियों के लिए चारे की व्यवस्था करें।

अगर आप बकरी पालन शुरू कर रहे हैं तो आपको बकरी के खाने के बारे में संपूर्ण जानकारी होना चाहिए। अगर आपको इसकी जानकारी नहीं है तो हम आपको बता दें कि बकरियों के खाने के लिए आपको हरी घास आम की पत्तियां खेतों से निकलने वाली फसल, सरसों चूरा, गेहूं का भूसा, महुआ की पत्ती आदि दे सकते हैं।

गेहूं का भूसा बकरियों का वजन बढ़ाने में काफी मददगार होता है आप चाहे तो सुबह के समय अथवा शाम के समय बकरियों को खुले मैदान में घास चराने के लिए भी ले जा सकते हैं जिससे उनका पेट भी भर जाएगा और आपको उनके खाने को लेकर परेशानी भी नहीं होगी।

बकरियों का प्रजनन प्रबंध करे

प्रत्येक नस्ल की बकरी साल में एक से दो बार बच्चों को जन्म देती है लेकिन यह तभी संभव है जब बकरी का प्रजनन प्रबंध अच्छी तरह से होगा। इसके लिए आपको बकरी और बकरी के समान नस्ल का चुनाव करके और ध्यान दे कि बकरे की उम्र 1.5 साल से 2 वर्ष तक होनी चाहिए। आप एक बकरे के इस्तेमाल से 20 से 25 बकरियों के साथ प्रजनन की प्रक्रिया को पूर्ण करवा सकते है।

बकरी पालन में कितना खर्च आता है?

यदि आप ग्रामीण क्षेत्र के निवासी हैं और आप बकरी पालन व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो पहले आपके लिए बकरी पालन व्यवसाय में लगने वाली लागत के बारे में सोचना होगा हालांकि इस बिजनेस को आप छोटे स्तर पर भी शुरू कर सकते हैं लेकिन बकरी पालन शुरू करने के लिए आपके पास कम से कम 2 से चार बकरी होनी चाहिए

और फिर आप धीरे-धीरे अपने बजट के अनुसार बकरियों की संख्या में वृद्धि कर सकते है। मान लीजिए अगर आप पांच बकरी के साथ बकरी पालन बिजनेस शुरू करते हैं तो प्रत्येक बकरी की कीमत ₹5000 तक होती है इस प्रकार आपको बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए ₹25000 तक खर्च करने होंगे।

और अगर आप बड़े स्तर पर बकरी पालन व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं तो आपको तकरीबन 2500000 रुपए तक का निवेश करना होगा हालांकि केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार के द्वारा कई प्रकार की बकरी पालन योजनाएं चलाई जा रही हैं जिनके माध्यम से बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने वाले लोगों को 50% से लेकर 70% तक की सबसे भी पर लोन प्रदान किया जाता है। 

बकरी पालन व्यवसाय से होने वाली कमाई

यदि आप सोच रहे हैं कि बकरी पालन व्यवसाय को शुरू करके आप कितना पैसा कमा सकते हैं तो हम आपको बता दें कि बकरी पालन एक ऐसा व्यवसाय है जिसे शुरू करके आप बहुत सारा पैसा कमा सकते हो क्योंकि प्रत्येक बकरी साल में 3 बच्चों को जन्म देती है और प्रत्येक बच्चे को बेच कर आप अच्छा पैसा कमा सकते है, इसके अलावा मार्केट में बकरी के मांस की भी काफी डिमांड है.

ऐसे में अगर आप बकरियों का मांस बेचते हैं तो आप और अधिक पैसा कमा सकेंगे। इसके अलावा डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी में बकरी का दूध काफी उपयोगी होता है ऐसी स्थिति में अगर आप बकरियों का दूध निकाल कर बेचते हैं तो आप आसानी से ₹300 प्रति लीटर की दर से बकरियों का दूध बेच सकते हो।

Gavn Bakri Palan Kaise Kare Related FAQs

गांव में बकरी पालन कैसे शुरू करें?

अगर आप गांव में बकरी पालन व्यापार शुरू करना चाहते हैं तो पहले आपको एक उचित रणनीति बनानी होगी और उसके अनुसार अपना व्यवसाय शुरू करने के लिए कार्य करना होगा।

गांव में बकरी पालन बिजनेस शुरू करने में कितना रुपए खर्च करना पड़ता है?

गांव में बकरी पालन का बिजनेस शुरू करने के लिए आने वाली लागत बिजनेस स्तर पर निर्भर करती है अगर आप 10 बकरियों का पालन करते हैं तो आप बड़ी आसानी से ₹50000 के निवेश में बकरी पालन व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

क्या कम खर्च में बकरी पालन बिजनेस शुरू कर सकते हैं?

अगर आपके पास पैसों की कमी है तो आप शुरुआत में बकरी पालन का व्यवसाय कब निवेश में खर्च कर सकते हैं इसके लिए आपको दो से चार बकरी खरीद कर उनके रहने और खाने पीने की व्यवस्था करनी होगी।

क्या गांव में बकरी फार्म शुरू करने के लिए कोई लाइसेंस सर्टिफिकेट की आवश्यकता होती है?

अगर आप अपने गांव में बकरी पालन व्यवसाय शुरू कर रहे हैं तो आपको छोटे स्तर पर इस बिजनेस को चलाने के लिए किसी प्रकार के लाइसेंस सर्टिफिकेट की आवश्यकता नहीं होगी लेकिन अगर आप बड़े स्तर पर शुरू कर रहे हैं तो आपको पशु विभाग से परमिशन लेनी होगी।

निष्कर्ष

आज हमने वह अपनी वेबसाइट के इस लेख के माध्यम से आप सभी के साथ गांव में बकरी पालन व्यवसाय कैसे शुरू करें? के संबंध में पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक साझा कर दी है। उम्मीद करते हैं कि अब आप जान चुके होंगे कि गांव में बकरी पालन व्यवसाय शुरू करने के लिए किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है और आप किस प्रकार से इन सभी चीजों को व्यवस्थित बनाए रखने के लिए कार्य कर सकते है।

Leave a Comment