परम्परागत कृषि विकास योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन । Paramparagat Krishi Vikas Yojana

Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022 :- सरकार देश के किसानों को पारंपरिक तरीके से खेती करने और अपने खेतों में कम कीटनाशकों का उपयोग करने के लिए कई तरह से प्रोत्साहित करती रहती है और इसके लिए सरकार समय समय में कई तरह की योजनाओं को चलाती रहती है जिससे किसानों को जैविक खेती करने पर अधिक से अधिक लाभ दिया जा सके। हाल ही में भारत सरकार द्वारा देश के किसानों के लिए एक नई योजना को शुरू किया गया है जिसका नाम “परम्परागत कृषि विकास योजना 2022” है।

एक सर्वें के अनुसार जैविक खेती करना खेत के साथ साथ पर्यावरण के लिए भी लाभकारी होता है। क्योंकि जैविक खेती करने में बहुत ही कम कीटनाशकों का उपयोग किया जाता है जिससे खेती की मिट्टी पर किसी तरह का कोई दुष्प्रभाव नही पड़ता है और साथ ही खेती में फसल की उपज भी ज्यादा होती है।

जैविक खेती करने के अपने कई फायदे है। आज के अपने इस आर्टिकल में हम परम्परागत कृषि विकास योजना के बारे में सभी जानकारी देंगे, जिससे अगर देश का कोई नागरिक इस योजना का लाभ लेना चाहता है तो वह इस योजना में आवेदन करके इस योजना का लाभ ले सके।

Contents

परम्परागत कृषि विकास योजना 2022 | Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

परम्परागत कृषि विकास योजना

इस योजना को देश में ख़राब हो रही खेती की स्थिति को देखते हुए देश में चल रही सॉइल हेल्थ योजना के तहत शुरू किया गया है। परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत देश के किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जायेगा और उनको सरकार द्वारा कई तरह की मदद भी प्रदान की जाएगी। जैविक खेती करने के कई फायदे है जो इस योजना के तहत किसानों को बताये जायेगे जिससे किसान जैविक खेती करें।

परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत देश के किसानों को जैविक खेती करने के लिए पारंपरिक ज्ञान और खेती करने के लिए आधुनिक विज्ञान के माध्यम से जैविक खेती के स्थाई मॉडल को विकसित किया जाएगा जिससे किसान अपने खेतों में जैविक खेती कर सके। अगर आप इस योजना के बारे में जानकारी लेना चाहते है तो इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

योजना का नाम परम्परागत कृषि विकास योजना
किसने शुरू की केंद्र सरकार
प्रारंभिक साल 2022
लाभार्थी देश के किसान
वित्तीय सहायता राशि 50000 रूपए
आधिकारिक वेबसाइटhttps://pgsindia-ncof.gov.in
आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन

आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

Paramparagat Krishi Vikas Yojana का मुख्य उद्देश्य

रासायनिक खादों और कीट नाशकों के कारण ख़राब हो रही मिट्टी की उर्वरता को बढ़ाना है और साथ ही इस योजना के अंतर्गत किसानों को क्लस्टर निर्माण, क्षमता निर्माण, आदनो के लिए प्रोत्साहन, मूल्यवर्धन के लिए आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी।

परम्परागत कृषि विकास योजना के अंतर्गत दी जाने वाली आर्थिक मदद | Financial Assistance Given Under Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

देश के किसानों को इस योजना के तहत क्लस्टर निर्माण, क्षमता निर्माण, आदनो के लिए प्रोत्साहन के साथ साथ मूल्यवर्धन और विपरण के लिए 3 वर्ष तक 50,000 रुपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से आर्थिक सहायता मदद प्रदान की जाएगी। सरकार द्वारा दी जाने वाली इस मदद में से 3 वर्ष तक 31000 रुपये हर महीने प्रति हेक्टेयर जैविक पदार्थों जैसे कि जैविक उर्वरकों, कीटनाशकों, बीजों आदि की खरीद के लिए दिए जायेगे।

इसके साथ ही किसानों को मूल्यवर्धन और विपरण के लिए 3 वर्ष तक 8800 रुपये प्रति हेक्टेयर और साथ ही क्लस्टर निर्माण एवं क्षमता निर्माण के लिए 3000 रुपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से 3 वर्ष तक के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। किसानों को मिलने वाली यह धनराशि डायरेक्ट बेनिफिट के माध्यम से सीधे उनके बैंक खाते में ट्रांसफर कर दी जाएगी। परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत अभी तक 1197 करोड़ रुपए की धनराशि को खर्च किया जा चुका है।

परम्परागत कृषि विकास योजना 2022 के तहत मिलने वाले लाभ | Benefits of Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022


सरकार द्वारा इस योजना को किसानों को लाभ देने के लिए ही शुरू किया गया है इस योजना के तहत मिलने वाले सभी लाभों के बारे में नीचे बताया जा रहा है।

  • भारत सरकार द्वारा Paramparagat Krishi Vikas Yojana का शुभारंभ किया गया है।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना को सोयल हेल्थ योजना के अंतर्गत शुरू किया गया है जिसके तहत देश के किसानों को जैविक खेती करने के लिए प्रेरित किया जायेगा।
  • जो भी किसान नागरिक इस योजना के तहत अपनी जैविक खेती करेगे उनको सरकार द्वारा आर्थिक आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाएगी और जैविक खाद और बीज लेने के लिए कई तरह की मदद भी प्रदान की जाएगी।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना किसानों के बीच में पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक विकास के माध्यम से खेती करने के स्थाई मॉडल को विकसित करने में काफी मदद करेगी।
  • जैविक खादों और बीज के कारण खेत की मिट्टी में उर्वरकता बढेगी जिसके कारण उनको फसल में भी काफी अच्छा मुनाफा होगा।
  • Paramparagat Krishi Vikas Yojanaके तहत किसानों को क्लस्टर निर्माण और क्षमता निर्माण के साथ साथ मूल्यवर्धन और विपरण के लिए भी आर्थिक मदद प्रदान की जाएगी।
  • Paraparagat Krishi Vikas Yojana के तहत सरकार किसानों को जैविक खेती के लिए 50000 प्रति हेक्टेयर के हिसाब से 3 वर्ष तक के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करेगी।
  • सरकार द्वारा दिए जाने वाले इस 50,000 रुपये में से 31000 जैविक उर्वरकों, कीटनाशकों, बीजों आदि के लिए और 8800 रुपये मूल्यवर्धन एवं वितरण के लिए और 3000 रुपये क्लस्टर निर्माण एवं क्षमता निर्माण के लिए किसान नागरिको को प्रदान किये जायेगे।
  • देश के किसानो को मिलने वाली यह मदद सीधे उनके बैंक खाते में भेजी जाएगी।
  • अभी तक इस योजना के तहत 1197 करोड़ रुपए खर्च किये जा चुके है।

परम्परागत कृषि विकास योजना के लिए जरुरी पात्रता और कागजात | Eligibility and Important Documents for Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

अगर देश का कोई किसान इस योजना के लिए आवेदन करना चाहता है तो उसका इस योजना के लिए पात्र होना जरुरी है इसके बाद ही उसको इस योजना के लिए पात्र माना जायेगा। इस योजना के लिए सभी जरुरी पात्रता और कागजात की सूची नीचे दी जा रही है।

  • परम्परागत कृषि विकास योजना में आवेदन करने वाला नागरिक भारत का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना के लिए सिर्फ देश के किसान ही आवेदन कर सकते है।
  • इस योजना में आवेदन करने वाले किसान की आयु 18 वर्ष से ज्यादा होनी चाहिए।
  • आवेदक किसान के पास अपना आधार कार्ड होना अनिवार्य है।
  • परम्परागत कृषि विकास योजना में आवेदन करने वाले किसान के पास अपना आय प्रमाण पत्र और साथ ही अपना आयु प्रमाण पत्र होना भी जरुरी है।
  • अगर आवेदक किसान के पास अपना राशन कार्ड है तो उसकी फोटो कॉपी किसान को आवेदन फॉर्म के साथ सलग्न करनी होगी।
  • आवेदक के पास एक वैध मोबाइल नंबर और अपने दो पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ होने अनिवार्य है।

परम्परागत कृषि विकास योजना 2022 में ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करें? | How to Apply Application for Paramparagat Krishi Vikas Yojana 2022

अगर आप इस योजना में आवेदन करना चाहते है तो आप नीचे दिए जा रहे प्रोसेस को फॉलो करके इस योजना के लिए अपना आवेदन कर सकते है।

  • परम्परागत कृषि विकास योजना में आवेदन करने के लिए आवेदक को सबसे पहले परम्परागत कृषि विकास योजना की ऑफिसियल वेबसाइट पर विजिट करना होगा, अगर आप चाहे तो इस दिए गये लिंक “https://pgsindia-ncof.gov.in/PKVY/Index.aspx” पर क्लिक करके इस वेबसाइट पर विजिट कर सकते है।
  • इस योजना की वेबसाइट पर विजिट करने के बाद आपको इस वेबसाइट के होमपेज पर “Apply Now” का एक आप्शन दिखाई देगा, आपको इस आप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • इस आप्शन पर क्लिक करते ही आपके सामने इस योजना का रजिस्ट्रेशन फॉर्म आ जायेगा, अब आपको इस फॉर्म में पूछी गयी सभी जानकारी जैसे आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि को भरना होगा।
  • इसके बाद आपको कुछ पूछे गये दस्तावेजों को अपने आवेदन फॉर्म के साथ अपलोड करना होगा और इसके बाद आपको इसके नीचे दिए गये सबमिट बटन पर क्लिक करके इस फॉर्म को सबमिट कर देना होगा।
  • इस आप्शन पर क्लिक करते ही परम्परागत कृषि विकास योजना के लिए आपका आवेदन फॉर्म सबमिट हो जायेगा।

परम्परागत कृषि विकास योजना से जुड़े कुछ FAQ

Paramparagat Krishi Vikas Yojana क्या है?

इस योजना को केंद्र सरकार द्वारा देश के किसानों को जैविक खेती करने और जमीन को जैविक खादों से जमीन को उपजाऊ बनाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए इस योजना को शुरू किया गया है।

परम्परागत कृषि विकास योजना का का लाभ कौन ले सकता है?

इस योजना का लाभ केवल देश के किसानों को दिया जायेगा।

क्या परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत किसानों को आर्थिक मदद दी जाएगी?

जी हाँ, परम्परागत कृषि विकास योजना के तहत किसानों को 50,000 रुपये हर महीने के हिसाब से 3 वर्ष तक प्रदान किये जायेगे।

Paramparagat Krishi Vikas Yojanaमें आवेदन कैसे करें?

इस योजना में आवेदन करने की पूरी प्रोसेस को ऊपर आर्टिकल में बताया गया है, आप ऊपर के आर्टिकल को पढ़कर इस योजना में आवेदन कर सकते है।

निष्कर्ष

आज हमनें अपने इस आर्टिकल में परम्परागत कृषि विकास योजना 2022 ऑनलाइन आवेदन । Paramparagat Krishi Vikas Yojana के बारे में बताया है। उम्मीद करते है कि योजना से जुड़ी सभी जानकारी आपको हमारे इस आर्टिकल में मिल गयी होगी।

Spread the love

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।