प्रधानमंत्री राष्ट्रीय पोषण अभियान | लाभ, पात्रता व दस्तावेज | आवेदन प्रक्रिया

हर साल ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली गर्भवती महिलाओं एवं 6 साल से कम आयु के किशोर तथा किशोरियों के पोषण के लिए नागरिकों को जागरूक करने हेतु महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के द्वारा एक माह चलने वाले राष्टीय पोषण अभियान के तहत 5वां राष्ट्रीय पोषण माह को आरंभ कर दिया गया है। जिससे 1 सितंबर से लेकर 30 सितंबर तक चलाया जाएगा।

जिसके अंतर्गत गांव की गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली महिलाओं, 6 साल से कम आयु के बच्चों और किशोरियों की शिक्षा की ओर विशेष ध्यान तथा उन्हें पोषण के प्रति जागरूक किया जाएगा ताकि ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोग गर्भवती महिलाओं और बच्चों के पोषण की ओर अधिक ध्यान दे। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के माध्यम से पंचायत स्तर पर लोगो को जागरूकता करने के लिए ग्राम पंचायतों को पोषण पंचायतों के रूप में जोड़ा जाएगा।

Rashtriya Poshan Maah 2022 के अंर्तगत सभी गतिविधियां स्थानीय कार्यकर्ताओं जैसे- पंचायत समितियां आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ताओं और एएनएम नर्सों आदि के माध्यम से संचालित की जाएंगी। अगर आप भारत सरकार के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के लोगो के लिए शुरू किया गया 5th Rashtriya Poshan Abhiyan 2022 से संबंधित और अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो इस पोस्ट को पूरा ध्यानपूर्वक जरूर पढ़िए।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय पोषण अभियान 2022 क्या है? (What is Rashtriya Poshan Maah 2022)

हमारे देश के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा भारत वासियों के लिए कई तरह की कल्याणकारी योजनाएं एवं अभियानों को चलाया जा रहा है ताकि देश की जनता को अधिक से अधिक लाभ प्रदान करके उनकी आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाया जा सके। पोषण की कमी के कारण देश में दिन-प्रतिदिन कुपोषण की समस्या बढ़ती जा रही है।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय पोषण अभियान लाभ पात्रता व दस्तावेज आवेदन प्रक्रिया

इस समस्या को दूर करने एवं देश के नागरिकों को पोषण संबंधित जानकारी उपलब्ध कराने हेतु 8 मार्च 2018 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पोषण अभियान की शुरुआत की है तथा अब पांचवा राष्ट्रीय पोषण माह (5th National Nutrition Month) आरंभ कर दिया गया है. इस अभियान को शुरू करने का मुख्य लक्ष्य ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली गर्भवती महिलाओं एवं दूध पिलाने वाली माताओं तथा 6 साल से कम आयु के बच्चों को पोषण संबंधित समस्याओं से छुटकारा दिलाने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा शुरू किए गए अभियान के अंतर्गत आंगनवाड़ी केंद्रों में कार्य करने वाली महिलाएं इस अभियान का संचालन करेंगे जिसके लिए उन्हें सरकार द्वारा ₹500 प्रदान किए जाएंगे. Rashtriya Poshan Maah 2022 के माध्यम से ना सिर्फ गर्भवती महिलाओं से शुरू कुपोषण के बारे में जागरूक किया जाएगा बल्कि उन्हें पौष्टिक आहार भी उपलब्ध कराए जाएंगे।

प्रधानमंत्री राष्ट्रीय पोषण अभियान 2022 का उद्देश्य

राष्ट्रीय पोषण माह 2022 के अंतर्गत महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के द्वारा ग्राम पंचायत स्तर पर कार्य किया जाएगा इस अभियान को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य महिलाओं और स्वास्थ्य व बच्चों की शिक्षा के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन करके आम लोगों को पोषण को लेकर जागरूक करना है। इसके अलावा ग्राम पंचायत को की गर्भवती महिलाएं तथा शिशु को दूध पिलाने वाली माताओं की पहचान करके उन्हें उचित पोषण युक्त आहार उपलब्ध कराना है, ताकि देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ रही कुपोषण की समस्या की रोकथाम की जा सके।

राष्ट्रीय पोषण माह 2022 के मुख्य तथ्य

देश के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाली गर्भवती महिलाओं एवं शिशु को दूध पिलाने वाली माताओं तथा 6 साल से कम आयु के बच्चे एवं किशोरियों को पोषण के प्रति जागरूकता लाने के लिए शुरू किए गए राष्ट्रीय पोषण माह 2022 के मुख्य तथ्य निम्नलिखित है, जैसे-

  • राष्ट्रीय पोषण माह 2022 की शुरुआत 8 मार्च 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के शुभ अवसर पर किया गया है।
  • इसका लाभ 1 सितंबर से लेकर 30 सितंबर 2022 तक ग्राम पंचायतों की गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली माताओं के अतिरिक्त 6 साल से कम आयु के बच्चों एवं किशोरियों को मिलेगा।
  • आम लोगों को पोषण के प्रति जागरूक करने के लिए राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत कार्यक्रम आयोजित करके एवं शिविर लगाकर पोषण के महत्व के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी.
  • सरकार द्वारा इस अभियान के अंतर्गत पंचायत स्तर पर लोगों को जागरूक करने के लिए गतिविधियां संचालित की जाएंगी जिसमें, जिला पंचायती राज अधिकारियों, सीडीपीओ, स्थानीय अधिकारियों का सहयोग लिया जाएगा।
  • इसके अलावा प्रधानमंत्री राष्ट्रीय पोषण अभियान के माध्यम से आंगनबाड़ी केंद्र में शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों के लिए देसी एवं स्थानीय खिलौनों के लिए राष्ट्रीय स्तर पर खिलौना निर्माण कार्यशाला भी आयोजित की जाएगी।
  • पांचवा राष्ट्रीय पोषण माह 2022 के तहत आंगनवाड़ी केंद्र में महिलाओं को वर्षा जल संचय के महत्व एवं स्वास्थ्य एवं बच्चों के लिए पारंपरिक पौष्टिक सामग्री के बारे में जानकारी दी जाएगी.
  • इन लोगों के बीच पारंपरिक व्यंजनों के बारे में जानकारी पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा राज्य स्तर पर अम्मा की रसोई कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाएगा।

पीएम राष्ट्रीय पोषण माह अभियान 2022 का लाभ कैसे मिलेगा?

महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति रानी जी ने वीडियो कांफ्रेंस के दौरान यह स्पष्ट किया है कि इस साल आयोजित पोषण माह अभियान 2022 के अंतर्गत पोषण पंचायतों के रूप में इस अभियान को शुरू किया जाएगा ताकि इस महीने गांव की गर्भवती एवं दूध पिलाने वाली माताओं तथा 6 साल से कम आयु के बच्चों एवं किशोरियों को ध्यान में केंद्रित करते हुए लोगों को पोषण के बारे में जागरूक करना है।

भारत सरकार के द्वारा Rashtriya Poshan Maah 2022 का लाभ ग्रामीण क्षेत्रों एवं पंचायतों में रहने वाली गर्भवती एवं शिशु को दूध पिलाने वाली माताओं तथा 6 वर्ष से कम आयु के किशोर और किशोरियों को पोषण के प्रति जागरूक करने के लिए आंगनवाड़ी केंद्र में कार्य करने वाली महिलाओं के द्वारा इस अभियान का संचालन किया जाएगा।

अर्थात आंगनवाड़ी केंद्र के माध्यम से तथा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के माध्यम से नागरिकों के बीच पोषण के महत्व की जानकारी एवं गर्भवती महिलाओं तथा बच्चों को पौष्टिक आहार उपलब्ध कराए जाएंगे।

Rashtriya Poshan Maah 2022 Related FAQs

राष्ट्रीय पोषण अभियान 2022 की शुरुआत किसके द्वारा की गई है?

इस अभियान की शुरुआत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा 8 मार्च 2018 को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर किया गया है।

राष्ट्रीय पोषण अभियान का लाभ कैसे मिलेगा?

इस अभियान के अंतर्गत ग्राम पंचायत में रहने वाली गर्भवती एवं शिशु को दूध पिलाने वाली महिलाओं तथा 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों को केंद्रित करते हुए इस अभियान का लाभ प्रदान किया जाएगा।

इस अभियान के अंतर्गत लाभार्थी को लाभ कैसे प्रदान किया जाएगा?

राष्ट्रीय पोषण माह के माध्यम आंगनवाड़ी केंद्रों एवं विभिन्न कार्यक्रम के माध्यम से इस अभियान का लाभ लाभार्थियों को उपलब्ध कराया जाएगा।

राष्ट्रीय पोषण अभियान 2022 शुरू करने का मुख्य उद्देश्य क्या है?

इस अभियान को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में कुपोषण की बढ़ती समस्या की रोकथाम के लिए लोगों को पोषण के महत्व के बारे में जानकारी पहुंचाना है ताकि देश में कुपोषण की समस्या की रोकथाम की जा सके।

निष्कर्ष

आज हमने आप सभी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा कुपोषण की समस्या की रोकथाम करने एवं लोगों के बीच पोषण के महत्व को पहुंचाने के उद्देश्य से शुरू किए गए Rashtriya Poshan Maah 2022 के संबंध में पूरी जानकारी उपलब्ध कराई है। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे इस आर्टिकल में भारत सरकार के द्वारा शुरू किए गए राष्ट्रीय पोषण माह 2022 के बारे में बताई गई सभी जानकारी अच्छी लगी होगी अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें।

Spread the love

अपना सवाल यहाँ पूछें। कमेंट में अपना मोबाइल नंबर, आधार नंबर और अकाउंट नंबर जैसी पर्सनल जानकारी न शेयर करें।