उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना इसमें किन नय प्रावधानों को जोड़ा हैं?

Uttarakhand Chief Minister Mahalaxmi Kit Scheme 2024 : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने जब से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान को शुरू किया है। तब से इस अभियान को आगे बढ़ाते हुए भारत सरकार और राज्य सरकार के द्वारा अनेक योजनाओं को समय – समय पर शुरू किया गया है। जैसे कि उत्तराखंड राज्य सरकार ने बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ के अभियान को आगे बढ़ाते हुए बेटियों के लिए उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना की शुरुआत की थी।

इस योजना के अंतर्गत बालिका शिशु के जन्म होने के बाद राज्य सरकार की तरफ से माता और शिशु दोनो के लिए पोषण और उसके हाइजीन के लिए एक किट प्रदान की जाती है। जिसमे शिशु बेबी साबुन, गर्म कपड़े, बेबी क्रीम, पाउडर आदि और माता के लिए बादाम, किसमिस, छुआरे आदि जैसी समाग्री शामिल होती थी।

लेकिन अभी हाल ही में उत्तराखंड राज्य सरकार ने उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना 2024 में कुछ बदलाव किए है। जिनके बारे में आपको जानकारी होना जरूरी है। इस योजना मैं सरकार ने क्या बदलाव किए हैं और इस योजना में क्या नए प्रावधान किए है। उसके संबंध में सभी जानकारी साझा करने जा रहे हैं। तो आज ही जानते हैं-

Contents show

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना | Uttarakhand Chief Minister Mahalaxmi Kit Scheme

दोस्तों आपको बता दें कि उत्तराखंड राज्य में काफी ऐसे गरीब परिवार निवास करते हैं। जो गर्भवती महिला के बच्चों के जन्म के बाद गर्भवती महिला और शिशु का विशेष ध्यान रखने में सक्षम नहीं है। ऐसे में उत्तराखंड राज्य सरकार ने 2021 में गर्भवती महिला और शिशु का ध्यान रखने के लिए महालक्ष्मी किट योजना को शुरू किया था।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना इसमें किन नय प्रावधानों को जोड़ा हैं

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना जोड़ा गया नया प्रावधान

जब इस योजना को 2021 में शुरू किया गया था। तब इस योजना को जेंडर बेस पर शुरू किया गया था। यानी कि यह योजना लिंग आधारित योजना थी। जिसमें सिर्फ बालिका के जन्म होने पर इस योजना का लाभ मिलता था। सरल शब्दों में समझे तो जब इस योजना को 2021 में शुरू किया गया था तब इस योजना का लाभ उन्ही महिलाओं को दिया जाता था जो बालिका को जन्म देती थी।

अगर गर्भवती महिला लड़के को जन्म देती है। तो इस योजना का लाभ महिला और बालक दोनों में किसी को नहीं मिलता था। लेकिन वर्तमान मुख्यमंत्री जी ने इस योजना को जेंडर बेस से हटा दिया है और इसमें नए प्रावधान को जोड़ा है। जिसका सीधा मतलब है कि अगर अब कोई गर्भवती महिला बालक यानी कि लड़के को जन्म देती है। तब भी वह इस योजना का लाभ उठा सकती है।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना किट में क्या होता है? | What is included in Uttarakhand Chief Minister Mahalaxmi Kit Yojana Kit?

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना किट में मां और शिशु दोनों के लिए अलग – अलग सामग्री प्रदान की जाती हैं। जिसके बारे में आप नीचे जान सकते है-

मां के लिए किट में शामिल की गई सामग्री

  • बादाम – 250 ग्राम
  • छुआरे – 500 ग्राम
  • बेडशीट (तकिया कवर के साथ) – 2
  • गरम शॉल – 1
  • जुराबें – 2 जोड़ी
  • तौलिया – 1
  • सैनिटरी नैपकिन – 2 पैकेट
  • नहाने के साबुन – 4
  • कपडे धोने के साबुन – 4
  • सरसों का तेल – आधा लीटर
  • नेल कटर –1

शिशु के लिए किट में शामिल की गई सामग्री

  • बेबी ब्लैंकेट – 1
  • गर्म कपड़े -2 जोड़ी
  • गर्म टोपी और जुराब
  • तौलिया – 2
  • बेबी साबुन – 3
  • बेबी ऑयल – 1
  • बेबी पाउडर – 1
  • बेबी क्रीम – 1
  • रबर शीट – 1
  • बेबी डायपर – 10 पीस
  • कॉटन नैपकिन – 12 पीस

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना में जुड़वा शिशु होने पर नया प्रावधान

जैसा कि हम आपके ऊपर बता चुके हैं कि दूसरों किट योजना के अंतर्गत महिला लाभार्थी और शिशु को अलग-अलग किट प्रदान की जाती है। जिसमें महिला के लिए उसके पोषण और शिशु के लिए उसके स्वच्छता से संबंधित सामग्री उपलब्ध कराई जाती है।

अब काफी लोगों का सवाल है कि अगर महिला लाभार्थी के जुड़वा बच्चे होते हैं तो उसे इस योजना का लाभ मिलेगा या नहीं। तो दोस्तों इसके बारे में हम आपको बता दें कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी जी के द्वारा इसमें भी एक प्रावधान किया गया है। अगर महिला लाभार्थी के जुड़वा बच्चे होते हैं तो महिला लाभार्थी को एक किट और बच्चों को 2 अलग-अलग किट प्रदान की जाएगी।

  • उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना किट प्राप्त करने के लिए पात्रता
  • महिला लाभार्थी उत्तराखंड निवासी होना चाहिए।
  • महिला लाभार्थी की आयु 18 वर्ष या 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  • इस योजना का लाभ उन्हें महिलाओं को मिलेगा जिनके पारिवारिक वार्षिक आय ₹6000 से कम होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत किट प्राप्त करने के लिए महिला लाभार्थी को शिशु के जन्म के 6 महीने पहले से इस योजना में आवेदन करना होगा।
  • महिला लाभार्थी 2 शिशु के जन्म तक ही इस योजना का लाभ ले सकती है।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना में आवेदन करने के लिए दस्तावेज | Documents to apply for Uttarakhand Chief Minister Mahalaxmi Kit Scheme

  • महिला लाभार्थी का आधार कार्ड
  • उत्तराखंड निवास प्रमाण पत्र
  • बार्षिक आय प्रमाण पत्र
  • लाभार्थी महिला का संस्थागत प्रसव प्रमाण पत्र
  • महिला लाभार्थी का मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट फ़ोटो

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया क्या है? | What is the process to apply for Uttarakhand Chief Minister Mahalaxmi Kit Scheme?

अगर आपके परिवार या परिचित में कोई गर्भवती महिला है। और वह उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना का लाभ उठाना चाहती है तो इस योजना में आवेदन करना होगा। आवेदन करने की प्रक्रिया बेहद सरल है। इसके बारे में नीचे हमने स्टेप बाय स्टेप बताया है। इन स्टेप को फॉलो करके आसानी से इस योजना में आवेदन कर सकते हैं-

  • इस योजना में आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको अपने नजदीकी आंगनबाड़ी केंद्र पर जाना होगा।
  • आंगनबाड़ी केंद्र पर उपस्थित कार्यकर्ता आशा से आपको इस योजना से संबंधित एप्लीकेशन फॉर्म प्राप्त करना होगा।
  • अब आपको इस आवेदन फार्म में पूछी गई सभी जानकारी को सही-सही भरना होगा
  • आवेदन फार्म में सभी जानकारी भरने के बाद मांगे गए सभी दस्तावेजों को इसके साथ संकलन कर दें।
  • इसके बाद इस आवेदन फार्म को आप आंगनवाड़ी कार्यकर्ता आशा के पास जमा कर दें
  • आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के द्वारा आपके आवेदन फार्म का वेरिफिकेशन किया जाएगा। और उसके बाद आंगनवाड़ी कार्यकर्ता के द्वारा आपके आवेदन फॉर्म को महिला अधिकारिता एवं बाल विकास विभाग जमा कर दिया जाएगा।
  • महिला अधिकारिता एवं बाल विकास विभाग में संबंधित कर्मचारियों के द्वारा आपका फॉर्म का सत्यापन किया जाएगा। अगर सत्यापन में अगर इस योजना के पात्र होगी तो महालक्ष्मी किट प्रदान कि जाएगी।

Uttarakhand Chief Minister Mahalaxmi Kit Scheme Related FAQ

महालक्ष्मी किट योजना किस राज्य की योजना है?

महालक्ष्मी किट प्रदान उत्तराखंड राज्य योजना है।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना को किस विभाग के द्वारा संचालित किया जा रहा है?

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना को नोडल उत्तराखंड के महिला अधिकारिता एवं बाल विकास विभाग के द्वारा संचालित किया जा रहा है।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना को कब शुरू किया गया था?

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना को 2021 में शुरू किया गया था।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना किट में क्या दिया जाता है?

इस योजना के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली किट में मां और शिशु के पोषण और स्वच्छता से संबंधित सामग्री दी जाती है।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना का नया प्रावधान क्या है?

अभी तक सिर्फ बालिका यानी की बेटी का जन्म होने पर ही महालक्ष्मी किट मिलती थी। लेकिन नए प्रावधानों के अनुसार अगर अब लड़के का जन्म होता है तब भी महालक्ष्मी किट माँ और शिशु दोनों को प्रदान की जाएगी।

क्या उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना का कोई हेल्पलाइन नंबर है?

उत्तराखंड मुख्यमंत्री महालक्ष्मी किट योजना का 0135-2775814 हेल्पलाइन नंबर है। जिस पर कॉल करके आप किसी तरह की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

निष्कर्ष

आज हमने आपको उत्तराखंड राज्य सरकार के महिलाओं के लिए संचालित की जा रही महालक्ष्मी किट योजना के संबंध में जानकारी साझा की है। किसी योजना में सरकार ने कुछ नए प्रावधानों को जोड़ा है। जिनके बारे में आज हमने आपको बताया है। मैं आशा करता हूं की दी गयी जानकारी आपके लिए उपयोगी रही होगी।

Leave a Comment