भारत के पर्वतीय क्षेत्रों में स्थित हिमाचल प्रदेश राज्य में कई प्रकार के समुदाय एवं जनजाति के लोग निवास करते हैं।

जिस प्रकार हिमाचल प्रदेश में निवास करने वाले लोग जल की बर्बादी कर रहे हैं। 

उसके अनुसार विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले समय में हिमाचल प्रदेश राज्य में भूजल स्तर बहुत ही नीचे चला जाएगा।

जिसके बाद लोगों को पानी की कमी के कारण काफी समस्याएं उठानी पड़ सकती हैं। 

इसी बात को ध्यान में रखते हुए हिमाचल प्रदेश राज्य सरकार ने पर्वत धारा योजना 2022 (Himachal Pradesh Parvat Dhara Yojana) को शुरू किया है।

जिसके अंतर्गत सरकार के द्वारा जल संग्रहण, प्रबंध एवं संरक्षण के कार्य किए जाएंगे।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि हिमाचल प्रदेश सरकार के द्वारा हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2022 को लाहौर और सीपीटी मंडलों को छोड़कर अन्य सभी 10 मंडलों में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू कर दिया गया है।

हिमाचल प्रदेश पर्वत धारा योजना 2022 से जुडी ज्यादा जानकारी के लिए नीचे क्लिक करे।